Showing posts with label paisa ye paisa. Show all posts
Showing posts with label paisa ye paisa. Show all posts

Sunday, February 14, 2021

Paisa ye paisa : Review by Aman Singh


 Paisa ye Paisa : Translation of James Headley Chase Novel The Sucker Punch

Review By Aman Singh

आपकी समीक्षा और प्रोत्साहन के लिए के लिए तहेदिल से शुक्रिया Aman Singh जी। 

पैसा ये पैसा...सूरज पॉकेट बुक्स और अमेज़न पर पेपरबैक/ebook फॉरमेट में उपलब्ध


https://www.amazon.in/dp/B08L1BCVYP/ref=cm_sw_r_wa_apa_JUNGFbP9045GA

या

https://www.soorajbooks.com/shop/

या

https://www.amazon.in/dp/9388094441/ref=cm_sw_r_cp_apa_i_gkRCFbTSXTQZM

पुस्तक की भूमिका का अंश :- अपनी बीच-हट की खुली खिड़की से, चैट मंद-मंद लहरों पर उफनते झाग और धूप में दूर तक बिखरी हुई तपती सुनहरी रेत को देख सकता था। उसकी दाईं ओर दूर पहाड़ी थी, जिस पर वह बल खाती सड़क थी जिससे लेरी को आना था। बीच-हट में बहुत गर्मी थी। बिजली का पंखा लगातार फरफरा रहा था और चैड के दमकते हुए चेहरे पर हवा फेंक रहा था। उसने अपना कोट उतार दिया और बाँहे ऊपर चढ़ा ली। उसके ताकतवर और मजबूत हाथ मेज पर टिके हुए थे और सिगरेट उपेक्षित-सी उंगलियों में सुलग रही थी। 


पुस्तक:- पैसा ये पैसा 

जेम्स हेडली चेइज़ के प्रसिद्ध उपन्यास 'सकर पंच' का हिंदी अनुवाद

अनुवाद:- श्री जितेंद्र नाथ जी

प्रकाशन:- सूरज पॉकेट बुक्स, ठाणे 

संस्करण:- अगस्त 2020 (प्रथम)

पृष्ठ:- 226

मूल्य:- 200 रुपये (पेपरबैक)


पुस्तक के कवर से :- एक खूबसूरत औरत की चाहत चैट विंटर को कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित करती है जो उसके हिसाब से एक परफेक्ट मर्डर था। हालांकि मर्डर करना कितना आसान होता है उसे छिपाना उतना ही मुश्किल...


पुस्तक पर मेरे निजी विचार:- मेरे अपने मत में आदरणीय श्री जितेंद्र नाथ जी ने जेम्स हेडली चेइज़ के उपन्यास सकर पंच का बेहद ही शानदार हिंदी अनुवाद किया है। जहां एक ओर यह पुस्तक बाहर से देखने में आकर्षित लगती है तो वहीं दूसरी ओर इसको पढ़ने में भी हमें ठीक वैसे ही आकर्षण प्रतीत होता है। बिल्कुल सटीक शब्दों और स्पष्ट भाषा शैली की झलक साफतौर पर इस पुस्तक को पढ़ने पर देखी जा सकती है। जैसा कि इस पुस्तक के नाम से प्रतीत होता है वैसा ही इस पुस्तक में पैसा है, पैसे के लिए धोखा है और पैसे के लिए हत्या भी है। कुल मिलाकर यह पुस्तक खुद में अनगिनत रहस्यों का खज़ाना समेटे हुए हैं। मैं आदरणीय श्री जितेंद्र नाथ जी को  इस पुस्तक के   अनुवाद के लिए  ढेर सारी  शुभकामनाएं देता हूं व वही  ईश्वर से उनके उत्तम स्वास्थ्य की कामना भी करता हूं। कुल मिलाकर मुझे तो यह पुस्तक बहुत ही अच्छी लगी। अगर आप भी थ्रिलर पढ़ने के शौकीन है तो इस पुस्तक को जरूर पढ़ें।

---------------------------------------------------------------------



Janpriya Lekhak Om Parkash Sharma : Andhere ke Deep : A Novel

  जनप्रिय लेखक ओम प्रकाश शर्मा : अंधेरे के दीप : एक प्रासंगिक व्यंग्य उपन्यास : अंधेरे के दीप   लेखक : जनप्रिय ओम प्रकाश शर्मा प्रकाशक...