Showing posts with label jitender nath. Show all posts
Showing posts with label jitender nath. Show all posts

Monday, November 1, 2021

Aaina: A Review by Sh. Dev Dutt Dev

 आईना: काव्य संग्रह

लेखक: जितेन्द्र नाथ

प्रकाशन: समदर्शी प्रकाशन, मेरठ

समीक्षा: श्री देव दत्त 'देव'

आईना: जितेन्द्रनाथ


"मुक्त छंद कविताएं ,मुक्तक ,गीत और ग़ज़ल की शक्ल में ढलती गीतिकाओं  से सुसज्जित 'आईना' काव्य संग्रह सचमुच में समाज का आईना है जिसमें वर्तमान समाज का प्रतिबिंब उभरकर सामने आता है जो कवि कर्म की गरिमा को रेखांकित करता है तथा संग्रह में चिंतन की अनेक धाराओं के माध्यम से रचनाकार ने अपने चिंतन के फलक की विशालता और उसकी प्रौढता को सफलता पूर्वक अभिव्यक्ति प्रदान की  हैं, मानव मन का विश्लेषण और सामाजिक विसंगतियों को व्यंजित करता काव्य संग्रह आईना केवल पाठक को बांधता ही नहीं अपितु चिंतन के लिए बाध्य भी करता है यह सब रचनाकार के कौशल का प्रतिफल है कवि ने चारों ओर घटित प्रत्येक घटनाक्रम का सूक्ष्म अवलोकन के उपरांत ही अनुभूति को अभिव्यक्ति प्रदान की है रचनाकार निरंतर बढ़ती भौतिकता के दुष्प्रभाव से भलीभांति परिचित है भौतिकता की चमक दमक ने हमारी परंपरागत जीवन शैली को प्रभावित किया है जिसके कारण घुटन सी महसूस होती है इसलिए कवि भौतिकता के उजाले से  दूर हटकर अंतहीन दौड़ धूप से परे शांति पूर्वक जीवन व्यतीत करने का पक्षधर है-

परवाज छोड़ परिंदे शजरों पर जा बैठे 

अंधेरों से नहीं ये उजालों के सताए हुए हैं

            समाज में निरंतर बढ़ती संवेदन शून्यता के कारण संवेदनशील रचनाकार का चिंतित होना स्वाभाविक है आए दिन हर मोड़ पर ऐसी घटनाएं देखने और सुनने को खूब मिलती हैं जो सभ्य समाज के लिए कोई शुभ संकेत नहीं हैं इन्हीं के कारण समाज का स्वरूप रुग्ण हुआ है कवि ने    समाज  में निरंतर बढ़ती  रुग्णता को भी प्रभावशाली ढंग से रेखांकित किया है

 जिंदा था तो कितने फासले थे दरमियां

 मौत आई तो सब कितने करीब लगते हैं 

         भौतिकता के प्रभाव के कारण बड़ी 

स्पर्धा और स्पर्धा के अतिरेक के कारण ईर्ष्या भाव का बढ़ना और दूसरों को मिटाने की सोचना दुर्भाग्यपूर्ण चिंतन है ऐसी स्थिति में कविवर स्नेह समरसता और सौहार्द को बल देने के उद्देश्य से संगठित होने की बात करता है ताकि समतामूलक सिद्धांत को स्थापित किया जा सके 

उंगलियां काट कर सब बराबर करने निकले हैं 

बंद मुट्ठी में भी एक बात है यह बात कौन करे 

         संक्षेप में बहुत ही प्रभावशाली और उत्तम सृजन के लिए मैं बंधुवर जितेंद्रनाथ को  इस उम्मीद के साथ हार्दिक बधाई  देता हूँ कि निरंतर साहित्य साधना करते हुए साहित्य को समृद्ध करने में अविस्मरणीय योगदान देते रहेंगे।

अनंत शुभकामनाएं

          देवदत्त देव

★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★

 आईना-काव्य संग्रह समदर्शी प्रकाशन, अमेज़न और flipkart पर उपलब्ध:

https://www.amazon.in/dp/B097Z1JHQN/ref=cm_sw_r_cp_apa_glt_fabc_Y22KJF47VN1GTVNVYAPC

और

https://www.flipkart.com/aaina/p/itmded014bc2f3dd?pid=9789390481811

देव दत्त 'देव'जी

Friday, May 7, 2021

Raakh: The Ash Trail : Jitender Nath

उपन्यास : राख  द ऐश ट्रेल
लेखक : जितेन्द्र नाथ
प्रकाशन : बूकेमिस्ट (सूरज पॉकेट बुक्स इंप्रिंट)
बुक कवर डिज़ाइन: निशांत मौर्य
प्रथम संस्करण: अप्रैल 2021
पृष्ठ संख्या : 216 
एडिशन : पेपरबैक
 संजय वर्मा जी की समीक्षा
★★★★★★★★★★★★★★★★
राख  द ऐश ट्रेल
लेखक – जितेन्द्र नाथ
प्रकाशन सूरज पॉकेट बुक्स
पृष्ठ संख्या 307
इस उपन्यास के लेखक ने इस के पहले जेम्स हेडली चेस के "सुकर पंच"  का हिंदी अनुवाद किया था जो सभी के द्वारा बेहद पसंद किया जा रहा है इसके बाद
यह लेखक का प्रथम उपन्यास है जो पढ़ने के बाद कही से नही लगता की यह प्रथम उपन्यास है क्योकि उपन्यास शुरू से अंत तक रोचक है और लेखक ने इसमें पाठकों के स्वाद का भरपूर ध्यान रखा है। और पाठकों को भी अपना दिमाग लगाने का भरपूर मौका मिलने वाला है।

कहानी की बात करे तो 
प्रेम नगर में एक ढाबे के पास बहुत बुरी जली हुई अवस्था मे एक आदमी की लाश मिलती है जिसकी शिनाख्त करना भी मुश्किल है  और इसके बाद इंस्पेक्टर रणवीर कालीरमण और उसका असिस्टेंट रोशन वर्मा इसकी इन्वेस्टीगेशन शुरू करते है । लेकिन कहानी में ट्विस्ट आता है जब इन्वेस्टिगेशन जैसे जैसे आगे बढ़ती है केस और उलझता जाता है और हत्याएं होना शुरू हो जाती है  जिसे सबूत के नाम पर  सिर्फ मात्र  ‘राख’  के सहारे इसको इंस्पेक्टर रणवीर सुलझाता है तो उसके सामने रहस्यमय खुलासे होते है।
उपन्यास में इन्वेस्टिगेशन कमाल की है जिसमे लेखक ने भरपूर मेहनत की है जिसे पाठक पढ़ेंगे तो स्वयं "दाद" दिए बिना नही रहेंगे।
एक उलझा हुआ और नया थ्रिलर कथानक जिसमे पाठकों को दिमागी खुराक मिलने वाली है ।
उपन्यास किंडल पर भी उपलब्ध है।
रेटिंग 4/5
______________________________________________
समीक्षा : नवनीश भट्टी जी 
राख  ...द ऐश ट्रेल
लेखक – जितेन्द्र नाथ जी
प्रकाशन ...सूरज पॉकेट बुक्स
पृष्ठ संख्या... 216

इस उपन्यास के लेखक ने इस के पहले जेम्स हेडली चेस के "The Sucker Punch" का हिंदी अनुवाद "पैसा ये पैसा "किया था जो सभी पाठकों द्वारा बेहद पसंद किया जा रहा है इसके बाद
यह लेखक का प्रथम उपन्यास है लेकिन उपन्यास पढ़ते समय आपको एक परिपक्व लेखन शेली की झलक मिलेगी उपन्यास पढ़ने के बाद कही से नही लगता की यह लेखक का प्रथम उपन्यास है क्योकि उपन्यास शुरू से अंत तक रोचक है और लेखक ने इसमें पाठकों के स्वाद का भरपूर ध्यान रखा है और उपन्यास पढऩे वालों को भी अपना दिमाग लगाने का भरपूर मौका मिलने वाला है।

उपन्यास की कहानी की बात करे तो ...
प्रेम नगर में एक ढाबे के पास बहुत बुरी जली हुई अवस्था मे एक आदमी की लाश मिलती है जिसकी शिनाख्त करना भी मुश्किल है  और इसके बाद इंस्पेक्टर रणवीर कालीरमण और उसका असिस्टेंट रोशन वर्मा इसकी इन्वेस्टीगेशन शुरू करते है । लेकिन कहानी में ट्विस्ट आता जब  ऐसी ही जली हुई एक और लाश मिलती है इन्वेस्टिगेशन जैसे जैसे आगे बढ़ती है केस और उलझता जाता है और हत्याएं होनी शुरू हो जाती है  जिसे सबूत के नाम पर  सिर्फ मात्र  ‘राख’  के सहारे इसको इंस्पेक्टर रणवीर सुलझाता है तो उसके सामने रहस्यमय खुलासे होते है।लेखक महोदय ने पुलिस की कार्य प्रणाली का इतना सटीक व सजीव वर्णन किया है जिस तरह का क्राइम फिक्शन लिखने वाले सिरमौर लेखक जनाब श्री SMP साहब के उपन्यासों मे मिलता है
उपन्यास अपने उद्देश्य में पूरी तरह से सफल रहा पाठकों को अंत तक पता नहीं चलता की कत्ल किस वजह से हो रहे है और कातिल कौन है उपन्यास का अंत रोचक और भावपूर्ण है । आगे लेखक महोदय से उम्मीद की जाती है कि  इंस्पेक्टर रणवीर और उसके साथी सहकर्मियों ,डॉक्टर नवनीत और पत्रकार वरुण से फिर मुलाकात होगी।
इस बेहतरीन रचना के लिए लेखक महोदय का दिल से आभार तथा भावी रचना की सफलता के लिए आग्रिम शुभकामनाएं । कृपया "शोरे गोगा" का रहस्य आगे जरूर खोलें ।यह उपन्यास किंडल पर भी उपलब्ध है।धन्यवाद आभार🌹🙏🏻
-------------------------------------------------------------------------
श्री मनेंद्र त्रिपाठी जी की एक पुस्तक समूह जूनून पुस्तकों का, 
Jasusi novel sansar ( आज़ाद ग्रुप ) में शेयर की गई समीक्षा: 

- सड़क किनारे मिले एक "जली लाश" से कहानी की शुरुआत होती है । इंस्पेक्टर रणवीर की हिस्से कातिल की पहचान का जिम्मा आता है । उसके बाद शुरू होता है ,एक बेहद दिलचस्प थ्रिलिंग अनुभव । बिल्कुल नए जमाने का इन्वेस्टीगेशन । एक के बाद एक कत्ल ।

एक ऐसा उपन्यास जिसमे कत्ल होने वालों को मरते वक्त तक भी पता नहीं चलता कि उसे कौन मार रहा है और क्यों मार रहा है ।

माननीय जितेंद्र नाथ जी का यह पहला "उपन्यास " है , परंतु उनके इस उपन्यास को पढ़कर आप आश्चर्य में पढ़ जाएंगे । इस उपन्यास को आप सच्चे मायनों में असली मर्डर इन्वेस्टीगेशन उपन्यास बोल सकते हैं । सब कुछ वास्तविकता से भरा हुआ । पुलिस की कार्य प्रणाली का इतना सजीव वर्णन शायद ही इस से पहले किसी लेखक ने लिखा हो ।
रणवीर का एक अभियुक्त की गिरफ्तारी का वारंट के लिए जज के पास जाने वाला सीन कमाल का है । कहानी की रफ्तार अचानक से किसी मूवी जैसी हो जाती है । कई अद्भुत चरणों से गुजरते हुए  मूवी  की तरह ही क्लाइमेक्स आता है और पाठक चकित रह जाता है ।

उपन्यास अपने उद्देश्य में पूरी तरह से सफल रहा ।
इस बेहतरीन रचना के लिए लेखक महोदय का दिल से आभार तथा भावी रचना की सफलता के लिए एडवांस में बधाईयां । कृपया "शोरे गोगा" का रहस्य आगे जरूर खोलें । Jitender Nath जी🙏🌹👏
______________________________________________
 Raakh : The Ash Trail (Hindi Edition) by Jitender Nath
Kindle link:
https://www.amazon.in/dp/B093FR4696/ref=cm_sw_r_wa_awdb_7YCMZCYZ7X8GX22VCF40
Amazon link:
 https://www.amazon.in/dp/B09343BDPH/ref=cm_sw_r_wa_awdb_imm_KP0SM0FT9YFB9S8BT41W
Sooraj Books link:
 https://www.soorajbooks.com/product/raakh/

Sunday, February 14, 2021

Paisa ye paisa : Review by Aman Singh


 Paisa ye Paisa : Translation of James Headley Chase Novel The Sucker Punch

Review By Aman Singh

आपकी समीक्षा और प्रोत्साहन के लिए के लिए तहेदिल से शुक्रिया Aman Singh जी। 

पैसा ये पैसा...सूरज पॉकेट बुक्स और अमेज़न पर पेपरबैक/ebook फॉरमेट में उपलब्ध


https://www.amazon.in/dp/B08L1BCVYP/ref=cm_sw_r_wa_apa_JUNGFbP9045GA

या

https://www.soorajbooks.com/shop/

या

https://www.amazon.in/dp/9388094441/ref=cm_sw_r_cp_apa_i_gkRCFbTSXTQZM

पुस्तक की भूमिका का अंश :- अपनी बीच-हट की खुली खिड़की से, चैट मंद-मंद लहरों पर उफनते झाग और धूप में दूर तक बिखरी हुई तपती सुनहरी रेत को देख सकता था। उसकी दाईं ओर दूर पहाड़ी थी, जिस पर वह बल खाती सड़क थी जिससे लेरी को आना था। बीच-हट में बहुत गर्मी थी। बिजली का पंखा लगातार फरफरा रहा था और चैड के दमकते हुए चेहरे पर हवा फेंक रहा था। उसने अपना कोट उतार दिया और बाँहे ऊपर चढ़ा ली। उसके ताकतवर और मजबूत हाथ मेज पर टिके हुए थे और सिगरेट उपेक्षित-सी उंगलियों में सुलग रही थी। 


पुस्तक:- पैसा ये पैसा 

जेम्स हेडली चेइज़ के प्रसिद्ध उपन्यास 'सकर पंच' का हिंदी अनुवाद

अनुवाद:- श्री जितेंद्र नाथ जी

प्रकाशन:- सूरज पॉकेट बुक्स, ठाणे 

संस्करण:- अगस्त 2020 (प्रथम)

पृष्ठ:- 226

मूल्य:- 200 रुपये (पेपरबैक)


पुस्तक के कवर से :- एक खूबसूरत औरत की चाहत चैट विंटर को कुछ ऐसा करने के लिए प्रेरित करती है जो उसके हिसाब से एक परफेक्ट मर्डर था। हालांकि मर्डर करना कितना आसान होता है उसे छिपाना उतना ही मुश्किल...


पुस्तक पर मेरे निजी विचार:- मेरे अपने मत में आदरणीय श्री जितेंद्र नाथ जी ने जेम्स हेडली चेइज़ के उपन्यास सकर पंच का बेहद ही शानदार हिंदी अनुवाद किया है। जहां एक ओर यह पुस्तक बाहर से देखने में आकर्षित लगती है तो वहीं दूसरी ओर इसको पढ़ने में भी हमें ठीक वैसे ही आकर्षण प्रतीत होता है। बिल्कुल सटीक शब्दों और स्पष्ट भाषा शैली की झलक साफतौर पर इस पुस्तक को पढ़ने पर देखी जा सकती है। जैसा कि इस पुस्तक के नाम से प्रतीत होता है वैसा ही इस पुस्तक में पैसा है, पैसे के लिए धोखा है और पैसे के लिए हत्या भी है। कुल मिलाकर यह पुस्तक खुद में अनगिनत रहस्यों का खज़ाना समेटे हुए हैं। मैं आदरणीय श्री जितेंद्र नाथ जी को  इस पुस्तक के   अनुवाद के लिए  ढेर सारी  शुभकामनाएं देता हूं व वही  ईश्वर से उनके उत्तम स्वास्थ्य की कामना भी करता हूं। कुल मिलाकर मुझे तो यह पुस्तक बहुत ही अच्छी लगी। अगर आप भी थ्रिलर पढ़ने के शौकीन है तो इस पुस्तक को जरूर पढ़ें।

---------------------------------------------------------------------



सुबोध भारतीय : हैशटैग : बदलते समाज में उम्मीदों को तलाश करती कहानियाँ

  पुस्तक : #  हैशटैग – अर्बन स्टोरीज़ लेखक : सुबोध भारतीय प्रकाशन : सत्यबोध प्रकाशन , सैक्टर 14 विस्तार , रोहिणी पृष्ठ : 168 मूल्य :...