Friday, August 26, 2022

Sooraj Pocket Books : 3 Novels : Shubhanand, Dr. Runjhun, Mohan Marya, Vikas C S Jha

सूरज पॉकेट बुक्स के नए सेट में तीन नए उपन्यास रिलीज
---------------------------------------------------------------------
https://www.soorajbooks.com/shop/
---------------------------------------------------------------
📙 मैं गुनाहगार हूँ: लेखक मोहन मौर्य 
जासूसी उपन्यास पढ़ने का शौकीन 38 वर्षीय आई टी प्रोफेशनल राहुल वर्मा जब ड्रग्स केस में फंसी एक 22 वर्षीय खूबसूरत लड़की को बेगुनाह साबित करने निकला तो खुद एक ऐसा गुनाह कर बैठा था, जिसकी वजह से ना सिर्फ एक बेगुनाह फांसी के फंदे पर जा पहुँचा बल्कि उसका खुद का भी जीना दुश्वार हो गया।अपनी आत्मा पर लगे ‘मैं गुनहगार हूं’ के दाग को मिटाने के लिये फिर उसने जो रास्ता चुना, उसने आगे चल कर ऐसा रुख अख्तियार किया जिसने न सिर्फ हैदराबाद के ड्रग्स माफिया को हिला डाला बल्कि उसकी खुद की जान के लाले भी पड़ गए।
📘 द ऐसिड मैन : लेखक शुभानंद और डॉ रुनझुन 
(हिंदी व अंग्रेजी संस्करण एक साथ उपलब्ध)
 मुम्बई के एक फ्लाईओवर के भूमिपूजन के दौरान मुख्यमंत्री की उपस्थिति में जमीन के नीचे से उजागर हुई लाश ने जो हलचल मचाई उसने पुलिस महकमे, मीडिया व पूरे शहर को हिला कर रख दिया। केस पर सीआईडी ऑफिसर मकरंद राज और विजय को लगा दिया गया जिनके हाथ सबूत के नाम पर एक पार्किंग टिकट के सिवा कुछ न लग सका। हालांकि डॉक्टर मैत्रेयी व उसकी फोरेंसिक टीम की इंवेस्टिगेशन से उजागर हुए रहस्यों के बाद लाश की पहचान हो सकी। जिसकी लाश मिली थी उसे मुम्बई की पब्लिक ‘एसिड मैन’ नाम से जानती थी। अब पूरा शहर एसिड मैन के क़ातिल को जानने के लिये उत्सुक था।

‘ड्रॉप डेड’ के बाद फोरेंसिक साइंस और थ्रिल-सस्पेंस के समावेश से उपजी क्राइम एम डी सीरीज़ की एक और सनसनीखेज मर्डर मिस्ट्री।
📗 संचिता मर्डर केस : लेखक विकास सी एस झा
वो एक हसीन सूरत और जहीन सीरत वाली लड़की थी जिसकी लाश एक शाम उसकी ही कार से बरामद हुई थी। मासूम सी दिखने वाली उस लड़की के क़त्ल की जांच जब शुरू हुई तो बैंक रॉबरी और तीन और क़त्ल का मामला सामने आया। एक ऐसी कहानी जो आपके दिमाग की नसों को झकझोड़ कर रख देगी। जहां हर शख्स को कत्ल का मौका भी हासिल था और मकसद भी। मगर जब राज़ खुला तो मानो लोगों के पैरों तले जमीन ही खिसक गई। सनसनीखेज खुलासों के साथ अश्विन ग्रोवर का एक नया कारनामा।

Thursday, August 25, 2022

5 books in my library

मेरा दुश्मन - कृष्ण बलदेव वैद 
रात की सैर - कृष्ण बलदेव वैद 
सीढ़ियां मां और उसका देवता - भगवानदास मोरवाल 
तीरथराम पत्रकार - बच्चन सिंह 
अदब से मुठभेड़ - ओमा शर्मा 
एक दिन मथुरा में - नरेंद्र कोहली 
श्री सुरेंद्र राणा जी जो हमारे पास ही के जिला सोनीपत से संबंध रखते हैं। सुरेंद्र राणा जी जो जहां एक बेहतरीन पाठक हैं वहीं एक शानदार पुस्तकप्रेमी भी हैं।  उनके माध्यम से कई बार ऐसी पुस्तकें प्राप्त होती हैं जो अन्यत्र कहीं उपलब्ध नहीं होती । आज इसी श्रृंखला में मेरी लाइब्रेरी में कुछ अनमोल नगीने शामिल हुए ।
1)कृष्ण बलदेव वैद के दो कहानी संग्रह 'मेरा दुश्मन' और 'रात की सैर' दो खंडों में है जिसमें कृष्ण बलदेव वैद जी की 1951 से 1998 तक की लिखी हुई कहानियां संकलित हैं ।
कृष्ण बलदेव वैद जी का कहानी संग्रह 'मेरा दुश्मन' नेशनल पब्लिशिंग हाउस से प्रकाशित हुआ है जिसमें 47 कहानियां संकलित हैं ।
इस कहानी संकलन में निम्नलिखित कहानियां हैं - बीच का दरवाजा, उड़ान, पवन कुमारी का पहला सांप, जामुन की गुठली, एक बदबूदार गली, एक कुतुबमीनार छोटा सा, लक्ष्मण सिंह, अपना मकान, शंकर, खामोशी, टुकड़े, अगर मैं आज, माई की महिमा, ऋण, बुढ़िया की गठरी, दो आवाज और एक खामोशी, वह मै हम, सब कुछ नहीं, भूत, मुरारीफ फूलवाला और मेम साहब, कबर बिज्जू, रीडिंग रूम, इनकार, अजनबी, अमित, अंधेरे में उपदेश, मरी हुई मछली, अवसर, सुमित्रा के भूत, कोलाज एक और दो, मेरा दुश्मन, मेरा क्या होगा, लापता, शैडोज, त्रिकोण, दूसरे का विस्तर, वह कौन थी, समाधि, विमल काफी हाउस और बुनियादी सवाल, एक था विमल, नीला अंधरा, रात का चीरफाड, आलाप, तीन भूत और इत्यादि कहानियां सम्मिलित हैं ।
दूसरे कहानी संग्रह 'रात की सैर' में कुल 40 कहानियां संकलित हैं । जिसमें बाद मरने के मेरे, दूसरा न कोई, अनात्मालाप, वह और मैं, उसके बयान, चोर दरवाजा, हमसफर, हवा, बू,  गढा, सफलता, आगंतुक, पेड़, चेहरा, जाल, पिछले जन्म की बात है, रात की सैर, भोर का भय, लीला, प्रवास गंगा, उस चीज की तलाश, दूसरे किनारे से, यह काले पर्दे कैसे हैं, आगे देखो फतेहपुरी, भूख कुमारी के साथ एक शाम, उसकी आगोश में, चोरों का चोर, अंधेरे की आत्मा, पुतला, शहर के साथी, चौथी खिड़की, साहिरा, गुंजल का खेल, दो, दूरियां, इबारत, तीन दुस्वप्न, पिता की परछाइयां, रात और एक सफरनामा शामिल हैं ।
2) 'कीरतराम पत्रकार' बच्चन सिंह जी द्वारा लिखित एक उपन्यास है जिसे एक ग्रामीण पत्रकार के जीवन को आधार बनाकर लिखा गया है ।
3) 'अदब से मुठभेड़' ओमा शर्मा जी द्वारा 5 साहित्यकारों के साक्षात्कार का संकलन है जिसमें राजेंद्र यादव, प्रियवंद, मन्नू भंडारी, मकबूल फिदा हुसैन और शिव मूर्ति के साक्षात्कार शामिल हैं ।
4)अगलली पुस्तक 'सीढियाँ, मां और उसका देवता'  भगवान दास मोरवाल जी की लिखी कहानियों का संग्रह है जिसमें 15 कहानियां संकलित हैं ।
5) एक दिन मथुरा में नरेंद्र कोहली जी की कहानियों का संकलन है जिसमें 11 कहानियां संकलित हैं ।
#bookhubb

Balraj Sahni : Meri filmy atamkatha

पुस्तक  : मेरी फिल्मी आत्मकथा  लेखक : बलराज साहनी  सम्पादन : संतोष साहनी  प्रकाशक : हिन्द पॉकेट बुक्स ( इंप्रिंट ऑफ पैंगविन बुक्स) मूल्य : 1...